Hacking Tips knowledge

What is IPV4 vs IPV6?Difference Between IPv4 and IPv6? IN HINDI

नमस्ते दोस्तोंदे, हमने पिचले पोस्ट में आईपी एड्रेस(ip address) क्या होतो वो जाना इस पोस्ट में हम लोग IPv4 और IPv6 के बारेमे जानेगे और येभी जानेगे की IPv4 और IPv6 में अंतर क्या हे तो चलिए शुरु करते हे,

IPv4 क्या हे

दोस्तों आपको आईपी एड्रेस(ip address) में पताही होगा, IPv4 आईपी एड्रेस(ip address) का 4वर्शन हे,

उदहारण: 208.77.188.166

उपरोक्त आईपी एड्रेस(ip address) डॉटेड डेसीमल नंबर फॉर्मेट में हे,सभी डेसीमल नंबर के सेट की रेंज ० से

255 हे, इस सभी सेट को ओकटेट कहते हे, तो एड्रेस(ip address) 4 ओकटेट हे,

हालांकि सिस्टम आईपी-पता को केवल बाइनरी प्रारूप में समझता है, इसलिए, जब आप अपने सिस्टम को एक आईपी-एड्रेस के साथ एक में डॉटेड डेसीमल नंबर फॉर्मेट कॉन्फ़िगर करते हैं, तो इसे नीचे दिखाए गए सिस्टम द्वारा आंतरिक रूप से एक डेसीमल नंबर फॉर्मेट में कनवर्ट किया जाता है,

01000101010110010001111111100010

(और)

01000101.01011001.00011111.11100010

IPv4 एड्रेस(ip address) 32 बिट नंबर हैं, यह कुल 32 बाइनरी नंबर होते हे यहां कुल 4 बाइट्स हैं

IPv4 आईपी एड्रेस के कुल संभव संयोजन 4,294,967,296 हैं और ये कब क ख़तम हो चुके हे इस ली IPv6 आईपी एड्रेस को बनाया गया आये अब जानते हे IPv6 आईपी एड्रेस क्या हे

IPv6 आईपी एड्रेस

IPv6 इंटरनेट प्रोटोकॉल वर्शन 6 है, एक संभावना है कि हम इंटरनेट में आईपी पते से बाहर हो सकते हैं, IPv6 को विकसित किया गया था, IPv6 आईपी एड्रेस में 128 बिट्स हैं 32 बिट IPv4 आईपी पते से यह बहुत बड़ा सुधार है हालांकि बहुत से नेटवर्क IPv4 और IPv6 दोनों के लिए कॉन्फ़िगर हो रहे हैं, फिर भी इंटरनेट में बहुत सारे नेटवर्क और सिस्टम मौजूद हैं जो आईपीवी 4 के लिए काम करता है। लेकिन अंततः इन सभी सिस्टम IPv6 मार्ग की तरफ जा सकते हैं।

IPv6आईपी पता आमतौर पर बृहदान्त्र द्वारा विभाजित हेक्साडेसिमल में लिखा गया है। एक बृहदान्त्र 16 बिट को अलग करता है निम्न IPv6 पते का एक उदाहरण है:

2002:4559:1FE2::4559:1FE2

नमस्ते दोस्तोंदे, हमने पिचले पोस्ट में आईपी एड्रेस(ip address) क्या होतो वो जाना इस पोस्ट में हम लोग IPv4 और IPv6 के बारेमे जानेगे और येभी जानेगे की IPv4 और IPv6 में अंतर क्या हे तो चलिए शुरु करते हे,

IPv4 क्या हे

दोस्तों आपको आईपी एड्रेस(ip address) में पताही होगा, IPv4 आईपी एड्रेस(ip address) का 4वर्शन हे,

उदहारण: 208.77.188.166

उपरोक्त आईपी एड्रेस(ip address) डॉटेड डेसीमल नंबर फॉर्मेट में हे,सभी डेसीमल नंबर के सेट की रेंज ० से

255 हे, इस सभी सेट को ओकटेट कहते हे, तो एड्रेस(ip address) 4 ओकटेट हे,

हालांकि सिस्टम आईपी-पता को केवल बाइनरी प्रारूप में समझता है, इसलिए, जब आप अपने सिस्टम को एक आईपी-एड्रेस के साथ एक में डॉटेड डेसीमल नंबर फॉर्मेट कॉन्फ़िगर करते हैं, तो इसे नीचे दिखाए गए सिस्टम द्वारा आंतरिक रूप से एक डेसीमल नंबर फॉर्मेट में कनवर्ट किया जाता है,

01000101010110010001111111100010

(और)

01000101.01011001.00011111.11100010

IPv4 एड्रेस(ip address) 32 बिट नंबर हैं, यह कुल 32 बाइनरी नंबर होते हे यहां कुल 4 बाइट्स हैं

IPv4 आईपी एड्रेस के कुल संभव संयोजन 4,294,967,296 हैं और ये कब क ख़तम हो चुके हे इस ली IPv6 आईपी एड्रेस को बनाया गया आये अब जानते हे IPv6 आईपी एड्रेस क्या हे

IPv6 आईपी एड्रेस

IPv6 इंटरनेट प्रोटोकॉल वर्शन 6 है, एक संभावना है कि हम इंटरनेट में आईपी पते से बाहर हो सकते हैं, IPv6 को विकसित किया गया था, IPv6 आईपी एड्रेस में 128 बिट्स हैं 32 बिट IPv4 आईपी पते से यह बहुत बड़ा सुधार है हालांकि बहुत से नेटवर्क IPv4 और IPv6 दोनों के लिए कॉन्फ़िगर हो रहे हैं, फिर भी इंटरनेट में बहुत सारे नेटवर्क और सिस्टम मौजूद हैं जो आईपीवी 4 के लिए काम करता है। लेकिन अंततः इन सभी सिस्टम IPv6 मार्ग की तरफ जा सकते हैं।

IPv6आईपी पता आमतौर पर बृहदान्त्र द्वारा विभाजित हेक्साडेसिमल में लिखा गया है। एक बृहदान्त्र 16 बिट को अलग करता है निम्न IPv6 पते का एक उदाहरण है:

2002:4559:1FE2::4559:1FE2

One comment

Leave a Reply