बैन किए जाने पर टिकटोक की प्रतिक्रिया, नहीं करते चीन के साथ यूज़र्स डेटा साझा


टिकटोक बैन के बाद अब आखिरकार टिकॉक की इस फैसले पर प्रतिक्रिया सामने आई है। टिकटोक इंडिया के प्रमुख निखिल गांधी का कहना है, “हमें संबंधित सरकारी स्टेकहोल्डर्स के साथ मिलकर जवाब देने और अनुमोदन देने के लिए आमंत्रित किया गया है।” उन्होंने अपने जवाब में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया है कि वह चीनी सरकार के साथ किसी प्रकार की जानकारी साझा नहीं करते हैं। आपको बता दें, भारत सरकार ने सोमवार रात आदेश दिया कि देश में चीन के 59 ऐप को बैन किया जा रहा है, जिसके तुरंत बाद ही Google Play store और Apple App Store से टिकटॉक ऐप को हटा दिया गया है। जहाँ ऐप स्टोर की लिस्टिंग से टिकटॉक को हटा लिया गया है, वहीं जिन यूज़र्स के फोन में यह ऐप पहले से ही इंस्टॉल था, वह इसका इस्तेमाल अब भी कर सकते हैं।

टिकटोक के आधिकारिक सोशल मीडिया हैंडल के द्वारा ज़ारी किए गए बयान में निखिल गांधी ने पुष्टि की है कि वर्तमान में बैन संख्या को लागू करने की प्रक्रिया चल रही है। कंपनी के प्रतिनिधित्व इस मामले पर चर्चा और अधिसूचना प्रस्तुत करने हेतू सरकारी अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। निखिल गांधी का कहना है कि टिकटक के लिए यूज़र्स की गोपनीयता और सुरक्षा प्राथमिक है व यूज़र्स के डेटा के साथ किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा। यहाँ तक कि चीनी सरकार इस बाबत को कोई निवेदन भी नहीं मानती तब भी।गांधी ने अपने बयान में कहा, “टिकटॉक भारतीय कानून के तहत सभी डेटा गोपनीयता और सुरक्षा आवश्यकताओं का पालन करता है और हमारे भारतीय यूज़र्स की किसी प्रकार की जानकारी किसी विदेशी सरकार के साथ साझा नहीं की जाती है, जिसमें चीन सरकार भी शामिल है। साथ।” ही अगर हमसे भविष्य में भी इस तरह का निवेदन किया गया, तो हम ऐसा कुछ नहीं करेंगे। हमारे लिए यूज़र्स की संज्ञा और अखंडता सबसे महत्वपूर्ण है। ”

गांधी ने यह भी कहा कि कई लाखों लोग अपनी जीवनशैली के लिए केवल टिकटोक पर ही निर्भर हैं, इनमें से कई फर्स्ट टाइम इंटरनेट यूज़र्स भी शामिल हैं।

एप्लिकेशन स्टोर से टिकटॉक का मैसट होने का मतलब है कि अब इस ऐप से संबंधित किसी प्रकार का अपडेट आपको नहीं मिलेगा। हालाँकि, यदि आपके पास पहले से ही ऐप मौजूद है, तो आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन किसी प्रकार के नए फीचर्स और सिक्योरिटी बदलाव अब भविष्य में नहीं किए जाएंगे।

टिकटोक के अलावा भारत सरकार ने 58 चीनी ऐप को भारत में बैन किया है, जिसमें ShareIt, UC Browser, Shein, Club Factory, Clash of Kings, Helo, Mi Community, CamScanner, ES File Explorer, VMate जैसे कई अन्य शामिल हैं। सरकार का दावा है कि ये सभी ऐप इस तरह की गतिविधियों में शामिल थे, जिससे देश की संप्रभुता और अखंडता, देश की सुरक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था आदि के लिए खतरा उत्पन्न हो सकता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: